MENU

भारतीय राजनीति के बड़े चेहरे राज्यसभा सदस्य व समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता अमर सिंह अब नहीं रहे



 02/Aug/20

भारतीय राजनीति के बड़े चेहरे राज्यसभा सदस्य व समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता अमर सिंह अब नहीं रहे। 64 वर्ष की उम्र में शनिवार को सिंगापुर के एक अस्पताल में उन्होंने आखिरी सांस ली।

बताते चलें कि वर्ष 2013 में किडनी में खराबी होने के कारण उन्होंने सिंगापुर के एक अस्पताल में अपना इलाज कराया, तभी से वे बीमार चल रहे थे।

अमर सिंह भले ही अंतिम समय में किसी पार्टी में नहीं रहे लेकिन उनकी मित्रता सभी दलों के नेताओं से थी। सियासत के सफर में बड़े औद्योगिक घरानों और सिनेमा जगत की हस्तियों से भी उनके गहरे रिश्ते रहे।

 

27 जनवरी 1956 को आजमगढ़ में पैदा होने वाले अमर सिंह ने कोलकाता के सेंट जेवियर्स कॉलेज से कानून की डिग्री हासिल करने के बाद कोलकाता में ही हार्डवेयर का व्यवसाय शुरु किया।

राजनीति के सफर में बॉलीवुड का ग्लैमर

कांग्रेस से अपना राजनैतिक करियर शुरु करने वाले अमर सिंह समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के काफी करीबी हो गए थे क्योंकि वह अपने राजनीति के सफर में बॉलीवुड का ग्लैमर भी साथ लेकर आए थे।

उन्होंने सपा में रहते हुए बॉलीवुड व बड़े औद्योगिक घरानो से अपने गहरे ताल्लुकात होने के चलते पार्टी को खूब फायदा पहुंचाया इसी का नतीजा रहा कि वे सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव के सबसे चहेते रहे,जो उन्हीं की पार्टी के कई नेताओं को रास नहीं आया।

अमर सिंह जब तक सपा में रहे तब तक मुलायम सिंह यादव के सबसे करीबी सिपहसालार के रुप में अपनी अलग पहचान रखते थे जिससे उन्हीं की पार्टी के कई कद्दावर नेताओं रामगोपाल यादव, आजम खान और शिवपाल यादव आदि की आंखों के किरकिरी बने हुए थे।

अमर सिंह का विवादों से भी गहरा नाता रहा, जिसमें बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन से उनके घरेलू संबंध होने के बावजूद उन्होंने बच्चन परिवार पर ही तीखे बयान दिए और बाद में उन्होंने वीडियो संदेश के माध्यम से उनसे माफी भी मांगी ।

मुलायम सिंह यादव व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बीच मचे घमासान में अमर सिंह को बार-बार बाहरी व्यक्ति करार दिया गया।

2008 में भारत की न्यूक्लियर डील के दौरान अल्पमत में आ गई मनमोहन सिंह सरकार को बचाया उस दौरान सपा सांसदो को उन्होंने कांग्रेस के पाले में लाकर खड़ा कर दिया।

नोट के बदले वोट के कथित घोटाले में अमर सिंह को गिरफ्तार कर जेल भी भेजा गया था।

उ.प्र. की सियासत में लगभग दो दशक के अपने सफ़र में वे समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव के रूप में सबसे असरदार नेता रहे जिन्होंने सपा के गृह कलह के बाद 6 जनवरी 2010 को पार्टी के सभी पदो से इस्तीफा दे दिया था, 5 जुलाई 2016 को वे राज्यसभा सदस्य बने थे।

समाजवादी पार्टी से इस्तीफा देने के बाद अमर सिंह भाजपा के करीबी हो गए और सपा के कद्दावर नेता आजम खान के खिलाफ कई बार विवादित बयान देकर चर्चा में बने रहे ।

अमर सिंह की सबसे करीबी रही फिल्म अभिनेत्री जयाप्रदा को लेकर भी सपा नेता आजम खान से कई बार तीखी नोक झोंक हुई ।

 

अमर सिंह के निधन पर शोक संवेदना

अमर सिंह के निधन पर उन्हें शोक संवेदना व्यक्त करने वालों में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जे. पी. नड्डा, मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, समाजवादी पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन आदि रहे।

 

   

 

 

 

 


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment

Can't read the image? click here to refresh.



Ad Area

सबरंग