MENU

  बीजेपी के पूर्व विधायक माया शंकर पाठक की छात्रा से छेड़खानी के मामले में हुई पीटाई 



 11/Jan/21

एमपी ग्रुप के चेयरमैन पाठक जी ने कान पकड़ कर रहम की मांगी भीख 
‘ मार दिया जाए कि छोड़ दिया जाएए बोल तेरे साथ क्या सलूक किया जाए ’
आज से लगभग 5 दशक पूर्व बनी फिल्म ष्मेरा गाँव मेरा देशष् का यह सुपर हीट गीत आज 5 दशक बाद बनारस के चिरई गाँव से दो बार भाजपा के विधायक रहे माया शंकर पाठक के साथ मार. पीट की वायरल हुई वीडियो पर काफी मुफीद साबित हो रहा है।
क्लाउन टाइम्स ने जब इस घटना की पड़ताल किया तो ज्ञात हुआ कि भाजपा के पूर्व विधायक माया शंकर पाठक को थाना चौबेपुर स्थित भगतुआ गाँव में उन्हीं के द्वारा स्थापित शिक्षा मंदिर एमपी ग्रुप के चेयरमैन कक्ष में एक छात्रा से कथित छेड़खानी के मामले में परिजनों तथा उनके समर्थकों ने मां बहन की भद्दी - भद्दी गालियां देते हुए ऐसी पिटाई किया की उनकी टोपी उड़ गई और बेचारे पाठक जी दया की भीख मांगने के लिए हाथ जोड़कर गिड़गिड़ाते रहे पर उन पर किसी ने रहम नहीं किया।
इतना ही नहीं छात्रा के परिजनों ने चेयरमैन पाठक जी को कथित छेड़खानी के मामले में उन्हें सरेआम जलील करने के लिए विद्यालय परिसर में दर्जनों कर्मचारियों के सामने पिटाई करने के साथ ही भद्दी.भद्दी गालियां देकर काफी जलील किया और पाठक जी कान पकड़ कर हाथ जोड़कर माफी मांगते रहे।
सर्व शिक्षा की राजधानी काशी में प्रधानमंत्री मोदी के नारे ष्बेटी बढ़ाओए बेटी बचाओष् को उन्हीं संसदीय क्षेत्र में भाजपा से दो बार के विधायक रहे माया शंकर पाठक ने अपनी बेटी से भी कम उम्र की छात्रा के साथ कथित छेड़खानी की घटना ने जहाँ एक ओर अपने सांसद नारे को तार- तार कर दियाए वहीं पूरी पार्टी को भी शर्मसार किया है।
यह वही माया शंकर पाठक है जिन्होंने आज से लगभग दो दशक पूर्व पत्रकारों के साथ हुई मारपीट की एक घटना की शिकायत को लेकर काशी पत्रकार संघ का प्रतिनिधि मण्डल जब कार्यालय पहुंचा इन्होंने अपने समर्थकों के दर्जनों पत्रकारों को दौड़ा-दौड़ा कर पिटवाया था।
क्लाउन टाइम्स ने जब पूर्व विधायक को पीटने वाले परिजनों में से एक को फोन लगाकर उनका पक्ष जानने का प्रयास किया तो उन्होंने कहा के चेयरमैन साहब ने पिटाई के बाद माफी मांग लिया तो हमने माफ कर दिया।

वहीं दूसरी ओर जब क्लाउन टाइम्स ने इस मामले में पूर्व विधायक से उनका पक्ष जानने के लिए फोन लगाया तो उनका फोन नहीं उठा किंतु उनकी एक वीडियो क्लाउन टाइम्स को प्राप्त हुईए जिसमें वे अपनी छीछालेदर होनें के बाद सफाई दे रहे हैं कि उनके साथ मारपीट की घटना राजनीतिक विद्वेष के कारण हुई है।
अगर पूर्व विधायक व विद्यालय के चेयरमैन साहब की बातों में दम है तो उन्होंने आखिर थाना चौबेपुर इसकी लिखित शिकायत क्यों नहीं किया।
वहीं दूसरी ओर सूबे की योगी सरकार में एक कथित छेड़खानी के मामले में परिजनों ने सरेआम कानून को अपने हाथों में ले भाजपा के पूर्व विधायक के साथ गाली गलौज और पिटाई करने की वीडियो वायरल होनें के बाद सीओ पिण्ड रा अभिषेक पाण्डेसय व थानाध्यनक्ष आस्थाक जायसवाल को इस मामले में कोई तहरीर नहीं मिली है ऐसे में पुलिस प्रशासन ने स्वषतरू संज्ञान लेकर अबतक कोई कार्यवाही क्यों नहीं किया।

कुल मिलाकर अब देखना है चाल चरित्र और चेहरे का ढंका बजाने वाली भाजपा पार्टी का शीर्ष नेतृत्वए पूरी पार्टी को शर्मसार करने वाले पूर्व विधायक माया शंकर पाठक के खिलाफ क्या कार्यवाही करती है?
 


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment

Can't read the image? click here to refresh.



सबरंग