MENU

जैपुरिया स्‍कूल्‍स और आस्‍ट्रेलिया के विश्‍वविद्यालय से हुआ समझौता



 10/Feb/21

छात्र-छात्राओं के लिए उन्‍नति के नए अवसर

सेठ एम.आर जैपुरिया स्‍कूल्‍स के दोनों कैम्‍पस बाबतपुर एवं पड़ाव के छात्र-छात्राओं के लिए एक ऐतिहासिक दिन के रूप में दर्ज हुआ, जैपुरिया स्‍कूल्‍स बनारस एवं मेलबर्न, आस्‍ट्रेलिया के स्‍वाइनबर्न श्विवविद्यालय के बीच एक समझौते पर हुस्‍ताक्षर हुए जिससे दोनों विश्‍वस्‍तरीय संस्‍थानों के सामंज्‍य से शिक्षा और युवा विकास के क्षेत्र में नई संभावनाओं और प्रगति को बल मिलेगा।

आयोजित इस समारोह में स्‍वाइनबर्न की ओर से डीन डॉ.बिल डामाचिस एवं जैपुरिया स्‍कूल्‍स के चेयरमैन दीपक कुमार बजाज ने इस समझौते पर हस्‍ताक्षर किये।

कार्यक्रम को सम्‍बोधित करते करते हुए स्‍वाइनबर्न विश्‍वविद्यालय के प्रो.वाइस चांसलर वेश्विक सहयोग डॉ.योहान क्‍लेइन ने कहा कि स्‍वाइनबर्न अर्न्‍तराष्‍ट्रीय स्‍तर पर ख्‍याति प्राप्‍त विश्‍वविद्यालय है जिसके विभिन्‍न देशों में पॉंच कैम्‍पस है और हम विश्‍व के अनेक विश्‍वविद्यालयों व शैक्षणिक संस्‍थानों के साथ मिल कर काम कर रहे हैं। स्‍वाइनर्बन ने भारतीय शिक्षक संस्‍थानों के साथ मिल कर 122 रिसर्च पेपर भी प्रकाशित किए हैं और हमारा विश्‍वास है कि जैपुरिया स्‍कूल्‍स के साथ मिलकर हम स्‍कूली छात्र-छात्राओं के लिए नयी व बेहतरीन पहल कर सकेंगें।

जैपुरिया स्‍कूल्‍स बनारस के चेयरमैन दीपक कुमार बजाज ने बताया कि जहॉं एक ओर स्‍वाइनबर्न श्विवविद्यालय के विशेषज्ञ जैपुरिया स्‍कूल्‍स बनारस के दोनों कैम्‍पस बाबतपुर एवं पड़ाव के छात्र-छात्राओंका विनिमय कार्यक्रम भी आयोजित किया जाएगा।

इस कार्यक्रम के अन्‍तर्गत दोनों संस्‍थानों के छात्र-छात्राओं मिलकर विभिन्‍न प्रोजेक्‍ट पर काम करेंगे, जिसके आधार पर उन्‍हें ग्रेड भी प्रदान किया जायेगा, साथ ही स्‍वाइनबर्न विश्‍वविद्यालय के शिक्षक चार से छ: सप्‍ताह के लिए जैपुरिया स्‍कूल्‍स बनारस के छात्र-छात्राओं को वाराणसी आकर प्रशिक्षित करेंगे और जैपुरिया स्‍कूल्‍स बनारस के बच्‍चों को आस्‍ट्रेलिया में उच्‍च शिक्षा हेतु स्‍कालरशिप भी प्रदान की जाएगी।

डीन डॉ.बिल ने कहा कि नयी पीढ़ी को रोजगार उद्यम के लिए विशेष रूप से सीखन के लिए आगे आना होगा। बदलती दुनिया के लिए हमें तकनीकी रूप से दक्ष, स्‍मार्ट व बहुमुखी प्रतिभा के धनी युवाओं को तैयार करना होगा जो चुनौतियोंका डट कर मुकाबला कर सकें।

डॉ.योहान ने कहा कि स्‍वाइनबर्न के अर्न्‍तराष्‍ट्रीय स्‍वरूप के कारण यहॉं दुनिया भर के छात्र-छात्रायें पढ़ते हैं और विभिन्‍न संस्‍कृति व कार्य पद्वति से युवाओं को सीखने का बड़ा अवसर मिलेगा।

प्रारम्‍भ में कार्यक्रम का शुभारंभ भारतीय संस्‍कृति के अनुरूप मंत्रोच्‍चारण के साथ दीप प्रज्‍जवलित करके किया गया।

कार्यक्रम के दौरान अभिभावकों व छात्र-छात्राओं के प्रतिनिधियों ने अपने विचार व्‍यक्‍त करते हुए इस समझौते पर हर्ष व उल्‍लास व्‍यक्‍त किया और कहा कि वैश्‍वीकरण के युग में इस प्रकार के प्रयासों से युवा प्रतिभाओं को नए अवसर मिलेंगे।

इस अवसर पर भारतीय संस्‍कृति के अनुरूप जैपुरिया स्‍कूल्‍स के छात्र-छात्राओं द्वारा दो रंगारंग कार्यक्रम प्रस्‍तुत किया गया।

कार्यक्रम को प्रमुख रूप से जैपुरिया स्‍कूल्‍स समूह के वाइस चेयरमैन श्रीवास्‍तव, जैपुरिया, कार्यक्रम समन्‍वयक राकेल श्राफ, जैपुरिया स्‍कूल्‍स बनारस के प्रबंध निदेशक मनोज बजाज, भारतीय मूल के स्‍वाइनबर्न छात्र हरीश राजेन्‍द्रनआदि ने भी सम्‍बोधित किया।

कार्यक्रम का संचालन ज्‍योति मेंहदीरत्‍ता ने किया और कार्यक्रमका समापन दोनों देशों के राष्‍ट्रगान से हुआ।

इस अवसर पर अधिशासी निदेशक श्‍याम सुंदर बजाज, बाबतपुर कैम्‍पस की प्रधानाचार्य सुधा सिंह, पड़ाव कैम्‍पस के प्रधानाचार्य आशीष सक्‍सेना भी उपस्थित रहे।

 


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment

Can't read the image? click here to refresh.



सबरंग