MENU

गैंगेस्टर एक्ट के आरोपी पंकज सिंह डब्लू की कुर्क सम्पति रिलीज करने का आदेश



 10/Mar/21

जिलाधिकारी के निर्देश पर गैंगेस्टर एक्ट में कुर्क पंकज सिंह डब्लू की कुर्क सम्पति को रिलीज करने का आदेश कोर्ट ने मंडुआडीह पुलिस को दिया है। विशेष न्यायाधीश (गैंगेस्टर एक्ट) जनार्दन प्रसाद यादव की अदालत ने पंकज सिंह डब्लू की मां सुधा सिंह व पत्नी रूबी सिंह की ओर से पुलिस द्वारा गैंगेस्टर एक्ट में कुर्क सम्पति रिलीज करने संबंधी दी गयी याचिका पर सुनवाई के बाद दिया।

अदालत में सुधा सिंह व रूबी सिंह ने अपने अधिवक्ता अनुज यादव, नरेश यादव व विकास सिंह की ओर से दी गयी याचिका में कहा कि जिला मजिस्ट्रेट के 25 अप्रैल 2018 को आदेश दिया था कि मंडुआडीह निवासी पंकज सिंह डब्लू का एक आपराधिक गिरोह है। जिसके बल पर वह आर्थिक एवं भौतिक लाभ के लिए रंगदारी वसूलने, भाड़े पर हत्या करने, प्राणघातक हमला करने के साथ आमजनमानस में आतंक फैलाने का कार्य करता है। अपनी आपराधिक गतिविधियों से उसने काफी सम्पति अर्जित की है। उक्त आपराधिक गतिविधियों से अर्जित धनराशि से उसने अपने पिता राम बालक सिंह, मां सुधा सिंह, पत्नी रूबी सिंह, भाई व भाभी के नाम से भूमि, जमीन व वहां क्रय किया है। उसके खिलाफ वर्ष 2002 से 2018 के बीच विभिन्न धाराओं के तहत 15 मुकदमे दर्ज हैं। ऐसे में उसकी समस्त सम्पति व वाहन को कुर्क करने का आदेश दिया गया था। इस आदेश पर मंडुआडीह पुलिस ने पंकज सिंह डब्लू की समस्त सम्पति कुर्क कर लिया। इस आदेश के खिलाफ सुधा सिंह व रूबी सिंह ने अदालत में अपील दाखिल की।

अदालत में बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता अनुज यादव, नरेश यादव व विकास सिंह ने दलील दिया कि जिला मजिस्ट्रेट ने मंडुआडीह पुलिस द्वारा गलत तथ्यों पर दिए गये आख्या के आधार पर सम्पति व वाहन कुर्क करने का आदेश दिया है। गैंग चार्ट में जिन मुकदमों का हवाला दिया गया हैं, उसमें आरोपित पंकज सिंह डब्लू को अदालत ने बरी कर दिया है। साथ ही पंकज सिंह के पिता सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारी हैं। उन्होंने अपने नौकरी काल मे अर्जित धन से उक्त संपत्तियों को अपनी पत्नी व बहु के नाम से क्रय किया है। अपने कथन के संबंध में दस्तावेजी साक्ष्य भी प्रस्तुत किये गए। अदालत ने साक्ष्यों के अवलोकन व बचाव पक्ष की दलील सुनने के बाद कुर्क सम्पति को रिलीज करने का आदेश दिया।

 


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment

Can't read the image? click here to refresh.



सबरंग