MENU

चंदौली के अरबपति एआरटीओ आरएस यादव हुए निलम्बित

अशोक कुमार मिश्र
प्रधान संपादक
 09/Jun/17

एआरटीओ आरएस यादव कैसे बनें अरबपती : प्रमोद सिंह

एआरटीओ साहब का ड्राइवर बना अरबपती

लगभग 2 दशक से अधिक समय तक वाराणसी और चंदौली में लगातार नौकरी करते हुए लखपति से करोड़पति और करोड़पति से अरबपति बन गये हैं, एआरटीओ आरएस यादव ।

ये बाते पूर्वांचल ट्रक ओनर्स एसोसीएसन के उपाध्यक्ष प्रमोद कुमार सिंह ने क्लाउन टाइम्स से एक अनौपचारिक बातचीत के दौरान कही। श्री प्रमोद ने बताया की 1992 में जल निगम में जूनियर इन्जीनियर के पद से प्रति नियुक्ति पर पांच वर्षों के लिए परिवहन विभाग में आए श्री यादव अब तक पद पर बने हुए है। जब से श्री यादव ने परिवहन विभाग की अवैध कमाई से लखपति से अरबपति तक का लम्बा सफर तय किया इस बीच मुलायम का सपा उसके बाद बसपा और अखिलेश यादव की सपा में इनके पैठ इतनी मजबूत रही इनपर भी यादव सिंह की तरह सभी सरकार में मंत्रीयों से लेकर आला अधिकारियों की इनपर कृपा बनी रही। इस बीच 25 वर्षों के लम्बे सफर में 2 वर्ष तक भदोही और गाजीपुर में भी नौकरी कर चुके है। आरटीआई कार्यकर्ता आरएस यादव पीछले 2 दशक से सभी सरकारों तक श्री यादव के अवैध कमाई और 2 जिले में पिछले 23 वर्षों से लगातार जमे होने के चलते ट्रकों की ओवर लोडिंग के नाम पर हर महीने लाखों की अवैध वसूली कर वाराणसी से लेकर गोरखपुर तक अरबों रूपये की बेनामी सम्पत्ति, होटल, मॉल आदि अर्जित कर लगातार मालामाल हो रहे हैं। श्री प्रमोद की माने तो पूर्व की भाजपा सरकार ने इनकी प्रति नियुक्ति की अवधि 1998 के बाद श्री यादव के विरुद्ध हाईकोर्ट में रीट याचिका दायर कर इन्हें आरटीओ से वापास जल निगम में भेजने का प्रयास किया, किन्तु इनके सामने किसी की दाल नही गली, बल्कि वे बनारस व चंदौली में ही जमें हैं। 2012 की सपा सरकार मेंं भदोही से चंदौली आ गये और नारस का भी चार्ज ले लिया, फिर क्या था इनके दोनों हाथों में लड्डू आ गया। इसी अवधि में एआरटीओ साहब अपने ड्राइबर महेन्द्र मौर्या पर इतने मेहरबान हो गये कि उसके नाम पर कैन्टोनमेन्ट के पांच सितारा होटल रेडिसन के बगल में लगभग 50 करोड़ का आलिसान होटल वेस्टिन बनवा कर खड़ा कर दिया। भले ही ड्राइवर श्री महेन्द्र के पास भोजूबीर में सर छुपाने के लिए महज 2 कमरे का अपना मकान है। श्री प्रमोद की माने तो श्री यादव की बेनामी सम्पत्तियों की लम्बी फेहरीस्त में इनकमटैक्स आफिस के समीप खजुरी कालोनी में आलीशान मकान, आशापुर में करोड़ो मूल्य की लगभग डेढ़ विश्वा जमीन, गोरखपुर के थाना- रुस्तमपुर का ढाला (काली मंदिर रोड पर) में कई सौ करोड़ का आलीशान मॉल जो इनके साले के नाम पर है । इनके पास 15 बेल्बो बसें हैं । श्री प्रमोद 2015 की सपा सरकार के तत्कालीन परिवहन मंत्री यासर साहब से लेकर अब भाजपा सरकार के परिवहन मंत्री स्वतंन्त्र देव सिंह का दो बार घेराव किया, फिर भी अबतक एआरटीओ आरएस यादव का बाल तक बांका नहीं हो सका ।

अपने ही बुने जाल में फंसे एआरटीओ हुए निलम्बित

8 जून गुरुवार के दिन से ही एआरटीओ आरएस यादव की उल्टी गिनती शुरू हो गई थी , जब वे अपने ही बुने जाल में अपने गुर्गों की चूक के चलते फंस गये। हर महीने करोड़ो की वसूली में शामिल में शामिल कांस्टेबिल और ड्राइवर की गिरफ्तारी के समय हूटर लगी सूमो से बरामद ‘इन्ट्री रजिस्टर’ इनके गले की फांस बन गया है। वसूली में शामिल गुर्गों की गिरफ्तारी के दूसरे दिन अफवाह उड़ी कि यादव साहब भी गिरफ्तार हो गये हैं । इस बारे में एसपी चंदौली संतोष कुमार सिंह ने क्लाउन टाइम्स से बातचीत में स्वीकार किया कि उनके गुर्गे गिरफ्तार हुए हैं। शाम होते ही खबर आई कि परिवहन मंत्री के निर्देश पर मुख्य सचिव ने कार्य में लापरवाही, ट्रकों की ओवरलोडिंग न रोक पाने के चलते उन्हें निलम्बित कर दिया।

अब देखना है कि एआरटीओ साहब के लखपती से अरबपती बनने के आरोपों के जांच की आंच की तपिश से खुद को बचा पाते हैं या यादव सिंह की तरह अपने ही बुने जाल में फंस जाते हैं ।

 

यदि आपके पास भी मीडिया जगत का या कोई अन्य समाचार हो तो हमें

clowntimesvaranasi@gmail.com पर मेल करें या फिर फोन नंबर 9839013179 पर बता सकते हैं।

हम आपकी पहचान हमेशा गुप्त रखेंगे। - संपादक

https://www.facebook.com/Clown Times

http://www.youtube.com/clowntimesvns1

Teitter.com/@clowntimes1

Whats App 9839013179


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment