MENU

आईएमए वाराणसी के चुनाव में अध्यक्ष पद पर डॉ. आलोक भारद्वाज हुए काबिज

अशोक कुमार मिश्र

 24/Sep/18

आईएमए वाराणसी के चुनाव में अध्‍यक्ष पद पर डॉ. आलोक भारद्वाज ने डॉ. कार्तिकेय सिंह को 22 वोटों के मामूली अंतर से हराया

सचिव के पद पर डॉ. मनीषा सिंह ने डॉ. एसपी सिंह को हराया

अध्‍यक्ष पर डॉ. कार्तिकेय की हार से बौखलाए शीर्ष पदाधिकारी ने नशे की हालत में धुत होकर अपने डेंटिस्‍ट डॉक्‍टर के साथ मिलकर हंगामा बरपाया

डॉक्टरों की सबसे प्रतिष्ठित संस्था इंडियन मेडिकल एसोसिएशन वाराणसी शाखा के चुनाव में 2018-19 के लिए डॉ. आलोक भारद्वाज इलेक्टेड प्रेसिडेंट के रूप में चुनाव जीतने में कामयाब रहे। डॉ. भारद्वाज ने डॉ. पीके तिवारी व वर्तमान इलेक्टेड प्रेसिडेंट डॉ. भानु शंकर पाण्डेय के पैनल से चुनाव लड़ा था। इनके मुकाबले डॉ. कार्तिकेय सिंह पूर्व अध्यक्ष डॉ. संजय राय व डॉ. एनपी सिंह के पैनल से चुनाव लड़े किन्तु महज 22 मतों के मामूली अंतर से चुनाव हार गए।

वहीं दूसरी ओर वर्तमान सचिव डॉ. मनीषा सिंह, डॉ. आलोक भारद्वाज के पैनल से प्रत्याशी रही जिन्‍होंने डॉ. एसपी सिंह को भारी अंतर से चुनाव हराने में कामयाबी हासिल की।

यहाँ इस बात का जिक्र करना आवश्यक है कि आईएमए के पूर्व अध्यक्ष डॉ. संजय राय के पैनल से चुनाव लड़ रहे डॉ. कार्तिकेय सिंह व डॉ. आलोक भारद्वाज के बीच हार का अंतर मामूली रहा, वहीं दूसरी ओर डॉ. मनीषा सिंह और डॉ. एसपी सिंह के हार का अंतर 100 से अधिक रहा। इस समीकरण के पीछे गॉयनिक डॉक्टरों के एसोसिएशन में इनका पदाधिकारी होना व पूर्व अध्यक्ष डॉ. एनपी सिंह की मजबूत लावी के चलते इन्हें एकमुश्त वोट मिला और दोबारा चुनाव जीत गई।

फाइनेंस सेक्रेट्री के पद पर डॉ. आलोक भारद्वाज के पैनल से उम्मीदवार रहे डॉ. एके त्रिपाठी चुनाव जीत गए, इनके खिलाफ डॉ. कार्तिकेय के पैनल से प्रत्याशी रहे डॉ. राजेश्वर नारायण सिंह चुनाव हार गए।

साइंटिफिक सेक्रेट्री के पद पर डॉ. कार्तिकेय के पैनल से डॉ. मधु अग्रवाल चुनाव जीत गर्इं, इनके मुकाबले डॉ. आलोक भारद्वाज के पैनल से प्रत्याशी रहे डॉ. डीएम गुप्ता चुनाव हार गए।

सोशल सेक्रेटरी के पद पर डॉ. आलोक भारद्वाज के पैनल से डॉ. शैलेंद्र कुमार सिंह चुनाव जीत गए, इनके मुकाबले डॉ. कार्तिकेय के पैनल से डॉ. राकेश कुमार पटेल चुनाव हार गए।

लाइब्रेरी सेक्रेटरी के पद पर डॉ. कार्तिकेय के पैनल से डॉ. अजय कुमार सिंह चुनाव जीत गए, इनके मुकाबले डॉ. आलोक भारद्वाज के पैनल से डॉ. सचिन लाल चुनाव हार गए।

पब्लिक रिलेशन सेक्रेटरी के पद पर डॉ. कार्तिकेय के पैनल से डॉ. अभिषेक सिंह चुनाव जीत गए, इनके मुकाबले डॉ.आलोक भारद्वाज के पैनल से प्रत्याशी रहे डॉ. सुमित कुमार सिंह चुनाव हार गए।

ज्वाइंट सेक्रेटरी के पद पर डॉ. कार्तिकेय के पैनल से डॉ. अमित सिंह व डॉ. अतुल कुमार सिंह चुनाव जीत गए, इनके मुकाबले डॉ. आलोक भारद्वाज के पैनल से प्रत्याशी रहे डॉ. चंद्रप्रकाश सिंह चुनाव हार गए।

वाइस प्रेसिडेंट के 3 पदों पर क्रमश: डॉ. वीएम सिंह, डॉ. अशोक सोनकर, डॉ. महेंद्र जायसवाल चुनाव जीत गए।

इसके अतिरिक्त प्रॉपर्टी सेक्रेट्री पर डॉ. कार्तिकेय के पैनल से डॉ. अरविंद सिंह व इंटरनल ऑडिटर के पद पर डॉ. आलोक भारद्वाज के पैनल से डॉ. पीके तिवारी चुने गए।

कुल मिलाकर इस बार आईएमए के चुनाव में डॉ. संजय राय का अपने धुर विरोधी डॉ. एनपी सिंह व डॉ. अरविंद सिंह के साथ जाना भले ही चुनावी समीकरण के लिहाज से सही फैसला रहा हो पर सबसे प्रतिष्ठित पद अध्यक्ष के लिए प्रत्याशी रहे डॉ. कार्तिकेय सिंह चुनाव हार गए। इसका सबसे बड़ा कारण रहा कि चुनाव से ठीक पहले चुनाव अधिकारी रहे डॉ. केसी गुप्ता को वर्तमान अध्यक्ष डॉ. अरविंद सिंह के द्वारा बुरी तरह से अपमानित किया जाना बड़ा कारण रहा, जिससे दु:खी होकर डॉक्टर साहब ने तत्काल इस्तीफा दे दिया। इनके इस्तीफा देते ही डॉ. अजीत सहगल को नया चुनाव अधिकारी बनाया गया जिनके नेतृत्व में इस बार का चुनाव सकुशल संपन्न हुआ।

वर्ष 2018-19 का चुनाव परिणाम इस बात की गवाही है कि डॉ. संजय राय वह डॉ. एनपी सिंह के मुकाबले डॉ. पीके तिवारी व डॉ. भानु शंकर पाण्डेय भारी पड़े। इन दोनों के बीच वर्तमान अध्यक्ष डॉ. अरविंद सिंह त्रिशंकु की तरह ऐसे लटके कि चुनाव परिणाम आने के बाद उन्होंने अपना आपा खो दिया और अपने विरोधी पैनल के लोगों को काफी कुछ अनाप-शनाप कहा जिसकी जानकारी क्लाउन टाइम्स को प्रतिष्ठित डॉक्टरों ने तत्काल दिया। इसके अलावा कार्यकारिणी के विभिन्न पदों पर भी दर्जनों डॉक्टरों को चुना गया है।

अब देखना है कि आने वाली टीम के इलेक्‍टेड प्रेसीडेंट डॉ. भानु प्रसाद पाण्‍डेय अक्‍टूबर म‍हीने में अध्‍यक्ष पद की जिम्‍मेदारी संभालने के पश्‍चात सचिव डॉ. मनीषा सिंह के साथ चुनावी मतभेदों को भुलाकर आपसी सहमति से जनहित में ब्‍लड की कीमत कम कर पाने में सफल हो पाते हैं या नहीं। साथ ही इस चुनाव से पूर्व आर्थिक मामलों में जिस प्रकार के वित्‍तीय अनियमितताओं की चर्चा रही डॉ. भानु व डॉ. पीकेटी के पैनल के द्वारा प्रचारित किया गया था उस पर किस प्रकार की जांच अमल में लाई जायेगी। सबसे जरूरी आईएमए वाराणसी शाखा में वर्तमान अध्‍यक्ष डॉ. अरविन्‍द सिंह के बदसलूकी के चलते डॉक्‍टरों के बीच जिस प्रकार के नफरत का माहौल विगत वर्ष के कार्यकाल में रहा है उसमें कितनी मधुरता लाने में कामयाब होते हैं इसका इंतजार सभी को रहेगा।


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment