MENU

स्मार्ट सिटी के तहत कार्य धरातल पर दिखाई नहीं पड़ रहे हैं : पार्थोजीत सेनगुप्ता



 27/Dec/18

प्रधानमंत्री मोदी का शहर बनारस इन दिनों स्मार्ट सिटी बनने की राह पर चल पड़ा है। स्मार्ट सिटी के तहत बनारस में क्या विकास कार्य हुए या हो रहे हैं, इस बारे में क्लाउन टाइम्स रिपोर्टर ने समाज संगठन के अध्यक्ष पार्थोजीत सेनगुप्ता से की खास बातचीत किया। पार्थोजीत सेनगुप्ता ने बताया कि स्मार्ट सिटी के तहत जो भी कार्य हो रहा है, उसमें प्रगति चाहिए ताकि वह काम जल्द से जल्द हो जाए। अभी तक के कार्य को वे केवल कागज पर हुआ कार्य बताते हैं उनके अनुसार कार्य वास्तव में प्रैक्टिकली धरातल पर दिखाई पड़ना चाहिए। शत प्रतिशत कार्य होने में वास्तव में समय लगता है और इसके लिए आम जनता को भी चाहिए कि सहयोग करें, तभी यह योजना साकार हो सकती है। गोदौलिया से लक्सा तक अतिक्रमण हटाने पर उन्होंने कहा कि यह कार्य निश्चित रूप से जनहित में हुआ है, जिन्होंने नाली के बाहर अतिक्रमण किया था उन्हीं का अतिक्रमण हटाया गया। नाली के उस पार नहीं तोड़ा गया, हां यदि किसी ने नाली के ऊपर पत्थर लगा दिया है और सीढ़ी बना दिया है, उसे तो तोड़ना जायज है। इस क्षेत्र में प्राचीनतम द रेस्टोरेंट, कानू बाबू डेकोरेटर, पांडे फर्नीचर जिनको अपने बचपन से देख रहे हैं, सब का बरामदा अतिक्रमण करके बनाया गया था। उसे ही तोड़ा गया है एसपी ट्रैफिक ने नई यातायात व्यवस्था बनाई है जिसके तहत शहर में जगह-जगह डिवाइडर लगा दिए गए हैं, जिससे कट खत्म हो गए है, और लिंक रोड का संपर्क मुख्य रोड रोड से खत्म हो गया है। इससे जनता को और व्यापारियों को क्या समस्या हो रही है, इस पर वह कहते हैं कि एसपी ट्रैफिक सुरेश चंद रावत जिस हिसाब से मेहनत कर रहे हैं, वह काबिले तारीफ है।

एक व्यक्ति इतना कुछ कर रहे हैं जिससे यातायात व्यवस्था सुगम हो और जाम की समस्या खत्म हो। हां कुछ जगहों पर विशेष ध्यान देना चाहिए जैसे ट्रामा सेंटर के पास और अन्य जगहों पर कट खत्म होने से जो समस्या हुई है इससे वहां के क्षेत्रीय लोगों और बुद्धिजीवियों से बात करके एक समाधान निकाला जाए तो निश्चित रूप से आने वाले दिनों में बनारस की यातायात व्यवस्था सुगम और सुदृढ़ हो जाएगी।


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment