MENU

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनावी रणक्षेत्र बनारस में भीषण गर्मी के बावजूद 58. 5 प्रतिशत हुआ मतदान



 20/May/19

वाराणसी में लोकसभा चुनाव 2019 कई मामलों में खास रहा । वाराणसी में जहॉ पहली बार देश के प्रधानमंत्री ने बतौर प्रत्‍या‍शी पर्चा दाखिल किया तो उनके खिलाफ कांग्रेस प्रत्‍या‍शी अजय राय ने पुन: ताल ठोकी । सपा-बसपा ने संयुक्‍त रुप से गठबंधन कर अपना प्रत्‍याशी कांग्रेस छोड. कर सपा में शा‍मील हुईं श्रीमती शालिनी यादव को प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ उतारा । सातवें चरण के अंतीम मतदान में वाराणसी ने अपना पुराना मत प्रतिशत को ही दोहराया । लोकसभा चुनाव 2014 में हुए मतदान को बढ़ा ने की चुनौती भाजपा के सामने थी परंतु तमाम कवायत के बाद भी मतदान प्रतिशत दशमलव से कुछ पीछे ही रहा। हालाकि कई मतदान केन्‍द्रों पर मतदाताओं के नाम वोटरकार्ड होने के बावजूद लिस्‍ट से गायब थे। यही कमी 2014 के मतदान के समय भी देखने को मिला था जिसे लगातार कवायत के बाद भी सुधारा नही जा सका। 2019 की बात करे तो भीषण गर्मी के बाद भी मतदाताओं में मतदान के लिए उत्‍साह भरपूर दिखा। मतदान का समय समाप्‍त होने के बाद मतदान का प्रतिशत 58. 5 तक ही पहुंच पाया। बहराल दो चुनाव पूर्व वाराणसी में चहा मतदान प्रतिशत 40 के अंदर होता था वह 2019 में लगभग 60 प्रतिशत के करीब पहुंचा। मुस्लिम इलाकों की बात करें तो रमजान के पवित्र महीने में भी भूखे प्यासे मुस्लिम समाज के लोगों ने जमकर चुनावी महापर्व पर अपने मताधिकार का प्रयोग किया। बस अब इंतजार है 23 मई के मतगणना की,उसके पश्चात तय होगा कि देश का अगला पीएम मोदी होंगे या कोई और ।


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment

Can't read the image? click here to refresh.