MENU

सेठ एमआर जैपुरिया स्कूल पड़ाव बनारस कैम्पस का पांचवां वार्षिकोत्सव सम्पन्न



 01/Dec/19

सृजन 2019 में बच्चों ने दिखाई जल संरक्षण के प्रति जागरुकता

जल ही जीवन है जल
नहीं तो कल नहीं


आज 1 दिसंबर को सेठ एमआर जैपुरिया स्कूल्स बनारस पड़ाव कैम्पस के पाँचवें वार्षिकोत्सव ‘सृजन’ 2019 में जल संकट से जूझ रहें जन मानस के अंतरद्वद्व एवं संघर्ष पर विजय प्राप्त करते बच्चों की सशक्त झलक ‘’एड लाइफ टू द सोर्स आफ लाइफ” का भव्य मंचन किया गया।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि आईआईटी भिलाई के निदेशक प्रो० रजत मूना एवं विशिष्ठ अतिथि अंतराष्ट्रीय भारतीय क्रिकेटर पीयूष चावला का स्वागत एवं अभिनंदन विद्यालय के अध्यक्ष दीपक बजाज, प्रबंध निदेशक मनोज बजाज एवं समस्त वरिष्ठ पदाधिकारियों द्वारा किया गया I

सांस्कृतिक संध्या का शुभारंभ वैदिक मंत्रोंचार के साथ अतिथियों द्वारा तुलसी वेदी पर दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया I प्रथम पूज्य श्री गणेश जी की वंदना के द्वारा मुख्य कार्यक्रम प्रारंभ किया गया I पटकथा का आरंभ मुंबई के गणेश उत्सव से किया गया, तत्पश्चात एक महाविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव के दृश्य से कार्यक्रम अपने मुख्य विषय विकास की मृगतृष्णा में फंसे मनुष्य व सृष्टि के मूल तत्व जल पर आए संकट को बच्चों ने बखुबी मंचित कर दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दियाI जल संचयन एवं जल संरक्षण की संघर्ष पूर्ण यात्रा को पूरे नाटक में मंचित करते हुए एक सुखांत दृश्य को दर्शाया गया है। इस नाटिका के मध्य गणेश वंदना, नन्हें बच्चों द्वारा पानी नहीं वॉटर नहीं, मल्हार नृत्य गीत, कव्वाली पिया हाजी अली, राजस्थानी नृत्य गीत पढ़ो लिखो ये छोरो, सहेजेंगे ना इस जल को, एक चतुर नार एवं काहें रूठ गए रे बदरवा आदि नृत्यों की मनमोहक प्रस्तुति कर दर्शकों को पूरे समय तक बांधे रखा। वार्षिकोत्सव में कैम्पस के 600 से अधिक बच्चों ने भाग लिया |


विद्यालय के चेयरमैन दीपक बजाज ने अपने प्रेरणास्पद एवं नवीन विचारों को सांझा करते हुए कहा कि हमेशा महत्वाकांक्षी व्यक्ति की प्रेरणा बाल मन को सदैव प्रभावित करती है, अतः मैं प्रति वर्ष बच्चों को महत्वाकांक्षी व्यक्ति से समय–समय पर बच्चों के बेहतर भविष्य निर्माण के लिए मिलवाता रहता हूँ, जिससे की बच्चे उनसे कुछ सीखें और प्रेरणा लें |

विद्यालय के प्रबंध निदेशक मनोज बजाज ने कहा कि बच्चों ने इतना सुन्दर मोहक गीत, नृत्य, नाटक प्रस्तुत किया है, निश्चित रूप से पूरे समाज को जल संरक्षण का सन्देश देने का प्रयास है और यह तभी संभव है, जब हम और आप जल संरक्षण का असली महत्व समझ कर उसे अपने वास्तविक जीवन शैली में शामिल करें साथ ही जल संरक्षण के प्रति ज्यादा से ज्यादा जागरूकता पैदा करेंगे, क्यों कि जल नहीं तो कल नहीं |

विद्यालय के निदेशक श्यामसुंदर बजाज ने अपने भाषण में कहा कि भारत के उज्जवल भविष्य निमार्ण हेतु प्रत्येक बच्चे का सर्वांगीण विकास होना अनिवार्य है । कहा कि शिक्षा से बुद्धि का, बुद्धि से मनुष्य का और मनुष्य से समाज का विकास होना अटल सत्य है I

मुख्य अतिथि प्रो. रजत मूना ने अभिभावकों एवं बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि मैं बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी में जैपुरिया स्कूल बनारस के प्रांगढ में आकर काफी खुश हूँ। इस स्कूल की आधारभूत सुविधाओं के साथ इसकी कार्य प्रणाली से ज्यादा प्रभावित हूँ। यहाँ पर वे सारी सुविधाएँ मुझे देखने को मिली जो आज के युग में बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए अत्यंत आवश्यक है |

विशिष्ट अतिथि भारतीय क्रिकेटर पीयूष चावला ने कहा की बच्चों ने इतना अच्छा जल संरक्षण पर अपना प्रदर्शन किया कि वास्तव हम सबको सोचने पर मजबूर कर दिया समाज को अच्छा सन्देश देने का काम किया है | क्रिकेट से जुड़ी सभी बारीकियों को साझा करते हुए कहा कि पढ़ाई के साथ खेल भी अत्यंत जरुरी है तभी आप अपने जीवन की बुलंदियों पर जा सकेंगे |

जैपुरिया स्कूल्स बनारस के इस वार्षिकोत्सव के दौरान वर्ष-पर्यन्त उल्लेखनीय प्रदर्शन के लिए विशिष्ट शिक्षकों एवं छात्र-छात्राओं को पुरुस्कृत व सम्मानित भी किया गया। इसी क्रम में जिज्ञासु बालमन में उठे अनेक प्रश्नों को मुख्य अतिथि आईआईटी भिलाई के डायरेक्टर प्रो. रजत मूना एवं विशिष्ठ अतिथि अंतरराष्ट्रीय भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी पीयूष चावला से पूछकर अपनी ज्ञान पीपासा को बच्चों ने शांत भी किया ।


मुख्य अथिति प्रो. रजत मूना के करकमलों द्वारा स्कूल प्रांगढ में डा. कलाम सभागार का अनावरण हुआ।

सृजन 2019 में बच्चों ने दिखाई जल संरक्षण के प्रति जागरुकता


जल ही जीवन है जल नही तो कल नही

आज 1 दिसंबर को सेठ एमआर जैपुरिया स्कूल्स बनारस पड़ाव कैम्पस के पाँचवें वार्षिकोत्सव ‘सृजन’ 2019 में जल संकट से जूझ रहें जन मानस के अंतरद्वद्व एवं संघर्ष पर विजय प्राप्त करते बच्चों की सशक्त झलक ‘’एड लाइफ टू द सोर्स आफ लाइफ” का भव्य मंचन किया गया।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि आईआईटी भिलाई के निदेशक प्रो० रजत मूना एवं विशिष्ठ अतिथि अंतराष्ट्रीय भारतीय क्रिकेटर पीयूष चावला का स्वागत एवं अभिनंदन विद्यालय के अध्यक्ष दीपक बजाज, प्रबंध निदेशक मनोज बजाज एवं समस्त वरिष्ठ पदाधिकारियों द्वारा किया गया I

सांस्कृतिक संध्या का शुभारंभ वैदिक मंत्रोंचार के साथ अतिथियों द्वारा तुलसी वेदी पर दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया I प्रथम पूज्य श्री गणेश जी की वंदना के द्वारा मुख्य कार्यक्रम प्रारंभ किया गया I पटकथा का आरंभ मुंबई के गणेश उत्सव से किया गया, तत्पश्चात एक महाविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव के दृश्य से कार्यक्रम अपने मुख्य विषय विकास की मृगतृष्णा में फंसे मनुष्य व सृष्टि के मूल तत्व जल पर आए संकट को बच्चों ने बखुबी मंचित कर दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दियाI जल संचयन एवं जल संरक्षण की संघर्ष पूर्ण यात्रा को पूरे नाटक में मंचित करते हुए एक सुखांत दृश्य को दर्शाया गया है। इस नाटिका के मध्य गणेश वंदना, नन्हें बच्चों द्वारा पानी नहीं वॉटर नहीं, मल्हार नृत्य गीत, कव्वाली पिया हाजी अली, राजस्थानी नृत्य गीत पढ़ो लिखो ये छोरो, सहेजेंगे ना इस जल को, एक चतुर नार एवं काहें रूठ गए रे बदरवा आदि नृत्यों की मनमोहक प्रस्तुति कर दर्शकों को पूरे समय तक बांधे रखा। वार्षिकोत्सव में कैम्पस के 600 से अधिक बच्चों ने भाग लिया |
विद्यालय के चेयरमैन दीपक बजाज ने अपने प्रेरणास्पद एवं नवीन विचारों को सांझा करते हुए कहा कि हमेशा महत्वाकांक्षी व्यक्ति की प्रेरणा बाल मन को सदैव प्रभावित करती है, अतः मैं प्रति वर्ष बच्चों को महत्वाकांक्षी व्यक्ति से समय–समय पर बच्चों के बेहतर भविष्य निर्माण के लिए मिलवाता रहता हूँ, जिससे की बच्चे उनसे कुछ सीखें और प्रेरणा लें |

विद्यालय के प्रबंध निदेशक मनोज बजाज ने कहा कि बच्चों ने इतना सुन्दर मोहक गीत, नृत्य, नाटक प्रस्तुत किया है, निश्चित रूप से पूरे समाज को जल संरक्षण का सन्देश देने का प्रयास है और यह तभी संभव है, जब हम और आप जल संरक्षण का असली महत्व समझ कर उसे अपने वास्तविक जीवन शैली में शामिल करें साथ ही जल संरक्षण के प्रति ज्यादा से ज्यादा जागरूकता पैदा करेंगे, क्यों कि जल नहीं तो कल नहीं |

विद्यालय के निदेशक श्यामसुंदर बजाज ने अपने भाषण में कहा कि भारत के उज्जवल भविष्य निमार्ण हेतु प्रत्येक बच्चे का सर्वांगीण विकास होना अनिवार्य है । कहा कि शिक्षा से बुद्धि का, बुद्धि से मनुष्य का और मनुष्य से समाज का विकास होना अटल सत्य है I

मुख्य अतिथि प्रो. रजत मूना ने अभिभावकों एवं बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि मैं बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी में जैपुरिया स्कूल बनारस के प्रांगढ में आकर काफी खुश हूँ। इस स्कूल की आधारभूत सुविधाओं के साथ इसकी कार्य प्रणाली से ज्यादा प्रभावित हूँ। यहाँ पर वे सारी सुविधाएँ मुझे देखने को मिली जो आज के युग में बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए अत्यंत आवश्यक है |

विशिष्ट अतिथि भारतीय क्रिकेटर पीयूष चावला ने कहा की बच्चों ने इतना अच्छा जल संरक्षण पर अपना प्रदर्शन किया कि वास्तव हम सबको सोचने पर मजबूर कर दिया समाज को अच्छा सन्देश देने का काम किया है | क्रिकेट से जुड़ी सभी बारीकियों को साझा करते हुए कहा कि पढ़ाई के साथ खेल भी अत्यंत जरुरी है तभी आप अपने जीवन की बुलंदियों पर जा सकेंगे |

जैपुरिया स्कूल्स बनारस के इस वार्षिकोत्सव के दौरान वर्ष-पर्यन्त उल्लेखनीय प्रदर्शन के लिए विशिष्ट शिक्षकों एवं छात्र-छात्राओं को पुरुस्कृत व सम्मानित भी किया गया। इसी क्रम में जिज्ञासु बालमन में उठे अनेक प्रश्नों को मुख्य अतिथि आईआईटी भिलाई के डायरेक्टर प्रो. रजत मूना एवं विशिष्ठ अतिथि अंतरराष्ट्रीय भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी पीयूष चावला से पूछकर अपनी ज्ञान पीपासा को बच्चों ने शांत भी किया ।
मुख्य अथिति प्रो. रजत मूना के करकमलों द्वारा स्कूल प्रांगढ में डा. कलाम सभागार का अनावरण हुआ।

उक्त अवसर पर विशेष रूप से मुख्य अतिथि प्रो. रजत मूना विशिष्ठ अतिथि पीयूष चावला एवं विद्यालय के अध्यक्ष दीपक बजाज, उपाध्यक्ष संजय अग्रवाल, प्रबंध निदेशक मनोज बजाज, निदेशक श्यामसुंदर बजाज, सुनिल सचदेवा, निदेशक सिद्दांत सचदेवा, गौरव अग्रवाल, गौरांग बजाज, अनिल जाजोदिया, अनिल सिंह, विद्यालय के प्रधानाचार्य आशीष सक्सेना, मुख्य अध्यापिका श्रीमती प्रियंका मुखर्जी, एवं समस्त शिक्षक वृंद के गौरवपूर्ण उपस्थिति के साथ बड़ी संख्या में अभिभावकगण व छात्र-छात्राओं की उपस्थिति रही।
मीडिया प्रबंधन की जिम्मेदारी जनसंपर्क अधिकारी अरुन भारती ने निभाई।


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment

Can't read the image? click here to refresh.