MENU

नीलकंठ तिवारी ने काशी खंड के पौराणिक कर्णघन्टा कुंड में हुए सुन्दरीकरण व जीर्णोद्धार विकास कार्यों का किया लोकार्पण



 19/Jul/21

उत्तर प्रदेश के धर्मार्थ कार्य मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने आज सोमवार को काशी खंड के पौराणिक कर्णघन्टा कुंड में हुए सुन्दरीकरण व जीर्णोद्धार विकास कार्यों का लोकार्पण किया। लोकार्पण करने के पश्चात मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने वहां स्थापित शिवलिंग का पूजन किया तथा सम्पूर्ण कुंड का भ्रमण किया। भ्रमण के दौरान कुण्ड में पानी के नीचे से और मिट्टी निकालकर गहरा करने एवं सुदर द्वार बनाने के लिए संबंधित अधिकारी को निर्देशित किया।

गौरतलब हो कि विगत कई वर्षों से यह कुंड बदहाली की मार झेल रहा था। लगभग पट गया था।क्षेत्रीय भ्रमण के दौरान क्षेत्रीय विधायक, पर्यटन व धर्मार्थ मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने इसकी दयनीय स्थिति को देखा और इसके जीर्णोद्धार/सुन्दरीकरण की योजना बनाई। उक्त योजना के तहत वाराणसी विकास प्राधिकरण द्वारा कर्णघन्टा कुंड के जीर्णोद्धार का कार्य शुरु हुआ, जो करीब एक वर्ष में पूर्ण हो गया। करीब 56 लाख की लागत से हुए सुंदरीकरण से यह कुण्ड आज सुंदरता का पर्याय बन चुका है। और क्षेत्रीय लोगो ने बताया कि क्षेत्र का जल स्तर ठीक हो गया है। कर्ण घंटा कुण्ड का वर्णन काशी खण्ड के स्कन्द पुराण के अध्याय 53, 92, 97 98 में किया गया है। मान्यता अनुसार प्रत्येक गुरू पूर्णिमा पर यहां स्थित शिवलिंग और महर्षि वेदव्यास की मूर्ति की पूजा की जाती है। इस कुण्ड पर ही तुलसीदास जी ने प्रथम हनुमान मंदिर बनाया। जिसे कोढ़ियाबीर हनुमान के नाम से जाना जाता है। उक्त कुण्ड के जीर्णोद्धार होने से स्थानीय जनता में हर्ष का माहौल बना हुआ।

लोकार्पण कार्यक्रम के अवसर पर वीडीए सचिव सुनील वर्मा के अलावा भाजपा के पदाधिकारीगण, मण्डल अध्यक्षगण पार्षदगण सहित सैंकड़ों की संख्या में स्थानीय तथा बाबा काशी विश्वनाथ के मुख्य कार्यपालक जी सहित क्षेत्र के सम्मानित नागरिक एवं भाजपा के मा. पदाधिकारीगण एवं सम्मानित कार्यकर्ताओं की उपस्थित रहे।

 


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment

Can't read the image? click here to refresh.



सबरंग