MENU

यूपीएससी 2022 टॉपर में लड़कियों का दिखा दमखम



 24/May/23

वाराणसी के सनबीम भगवानपुर की गरिमा लोहिया ने यूपीएससी 2022 में पाया दूसरा स्‍थान

UPSC Topper 2022 : भारत की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित किया जाता है। जिसे सिविल सेवा परीक्षा के नाम से भी जाना जाता है को उर्त्‍तीण करने का ख्‍वाब हर युवा में होता है। काफी शिद्दत से कठिन परिश्रम करने के बावजूद कुछ ही लोगों को इसमें सफलता मिलती है जो कि आगे चलकर देश सेवा में अपना उत्‍कृष्‍ट प्रदर्शन करते हैं। 2022 के परीक्षा परिणाम की घोषणा होते ही परीक्षार्थियों के चेहरे खिल गये। और खासकर ग्रेटर नोएडा की इश्तिा किशोर जो कि डीयू के श्रीराम कॉलेज ऑफ कामर्स की अर्थशास्‍त्र (ऑनर्स) में स्‍नातक ने पहला स्‍थान हासिल ‍किया। डीयू के कीरोड़ीमल कॉलेज से वाणिज्‍य में स्‍नातक गरिमा लोहिया ने दूसरा स्‍थान प्राप्‍त किया। आईआईटी हैदराबाद में सिविल इंजीनियरिंग में बीटेक करने वाली उमा हरित एन ने तीसरा स्‍थान प्राप्‍त किया व डीयू की मिरांडा हाउस से स्‍नातक स्‍मृति मिश्रा ने चौथा स्‍थान हासिल किया इनके चेहरों पर सबसे ज्‍यादा खुशी की आभा रही।

बात करें वाराणसी की तो यूपीएससी के परिणाम में सनबीम भगवानपुर से बारहवीं की पढ़ाई करने वाली गरिमा लोहिया ने देश में दूसरा स्थान हासिल किया जिससे शहरवासियों ने खुद को गौरवान्वित महसूस किया। हालांकि, गरिमा मूलरूप से बिहार की रहने वाली हैं, लेकिन उनकी सफलता का जश्न काशी में मना है।

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की मुख्य परीक्षा में जिले की मेधा चमकी है। कठिन परिश्रम और लगन की बदौलत मेधावियों ने श्रेष्ठता साबित की है। आराजी विकास खंड के रोहित कुमार ने 225वीं रैंक हासिल करके काशी का मान बढ़ाया है। रोहित के पिता सब्जी बेचकर परिवार का खर्च चलाते हैं।

सनबीम शिक्षण समूह के चेयरमैन डॉ दीपक मधोक और निदेशक भारती मधोक ने यूपीएससी में झंडा गाड़ने वाले मेधावियों को बधाई दी। साथ ही केक काटकर जश्न मनाया। इसी तरह जिले में तैनात एएसडीएम व मूलरूप से बलिया के रहने वाले शिशिर ने भी श्रेष्ठता साबित की है। शिशिर की आल इंडिया रैंक 16वीं है। जैसे ही सफलता की सूचना मिली, वैसे ही प्रशासनिक अधिकारियों ने बधाई दी। एडीएम वित्त एवं राजस्व संजय कुमार ने मिठाई खिलाकर शिशिर का मुंह मीठा कराया है।

देश में 16वीं रैंक पाकर शिशिर सिंह ने आईएएस बनने का सपना पूरा कर लिया है। बलिया के हरपुर निवासी सिंहासन सिंह और कमलेश सिंह के बेटे शिशिर इस समय वाराणसी में अपर उपजिलाधिकारी के पद पर तैनात हैं। आईआईटी धनबाद से पेट्रोलियम इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर चुके शिशिर ने बताया कि चौथे प्रयास में सफलता हासिल की है। उन्होंने सफलता का मंत्र भी दिया और कहा कि अगर दृढ़ निश्चय के साथ कोई भी कार्य किया जाए तो उसमें सफलता जरूर मिलती है। इसकी जो खुशी होती है, उसकी कल्पना नहीं की जा सकती है।
काशी की जानी मानी सीए जमुना शुक्ला और ओमप्रकाश शुक्ला के बेटे अमृतेश शुक्ला ने भी यूपीएससी परीक्षा में 324वीं रैंक प्राप्त किया है। 2019 में दिल्ली टेक्निकल यूनिवर्सिटी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर चुके अमृतेश की सफलता से परिवार में खुशी का माहौल है। उन्होंने बताया कि दूसरे प्रयास में सफलता मिली है। आईएएस बनने का जो सपना देखा था, उसको पूरा करने के बाद बहुत खुशी हो रही है। अमृतेश इस समय एक अमेरिका की कंपनी में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर काम कर रहे हैं।

यूपीएससी की मुख्य परीक्षा में लहरतारा के अमलानगर कालोनी निवासी शिवम ने 591वीं रैंक हासिल की है। सनबीम लहरतारा से बारहवीं की परीक्षा पास करने के बाद शिवम ने एनआईटी हमीरपुर हिमाचल प्रदेश से इंजीनियरिंग किया। इसके बाद बंगलूरू में मल्टीनेशनल कंपनी में काम किया। वर्ष 2021 में पीसीएस की परीक्षा पास की, फिर यूपीएससी की तैयारी में जुट गए। शिवम ने बताया कि जो रैंक मिली है, उसके आधार पर आईपीएस बनने का मौका मिल सकता है। शिवम के पिता मनमोहन गुप्ता अधिवक्ता हैं। मां गीता देवी गृहिणी हैं। परिणाम आने के बाद सनबीम लहरतारा के शिक्षकों ने शिवम को बधाई दी और विद्यार्थियों के साथ केक काटकर उनकी सफलता का जश्न मनाया। चेयरमैन डॉ. दीपक मधोक व निदेशक भारती मधोक ने कहा कि यह बड़ी उपलब्धि है। काशी का मान-सम्मान बढ़ा है।


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment

9518


सबरंग