MENU

शिक्षा के साथ-साथ संस्कार का होना अति आवश्यक : रविशंकर त्रिपाठी



 21/Feb/23

शिक्षा के साथ-साथ संस्कार का होना अति आवश्यक है। संस्कार संस्कृति के अध्ययन से प्राप्त होता है। भारतीय संस्कृति सबसे प्राचीन संस्कृति है। भारतीय संस्कृति से उत्कृष्ट संस्कार का सृजन होता है अतः हमें अपने भारतीय संस्कृति से जुड़े रहना चाहिए। उक्त वक्तव्य यूनिवर्सल पब्लिक स्कूल बबुरी के डायरेक्टर रविशंकर त्रिपाठी ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा। मंगलवार को यूनिवर्सल पब्लिक स्कूल में भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा 2023 में सफल विद्यार्थियों को सम्मानित किया गया। यह परीक्षा गायत्री तीर्थ शांतिकुंज हरिद्वार द्वारा आयोजित की जाती है। इस परीक्षा में सीता दुबे कक्षा 6 विद्यालय में प्रथम ,सौर्य त्रिपाठी कक्षा 7 द्वितीय, रितेश गुप्ता कक्षा 7 तृतीय स्थान पर रहे। कक्षा 12 के विद्यार्थी उत्कर्ष चौबे ने जनपद में द्वितीय स्थान प्राप्त किया। इस कार्यक्रम में रविंद्र त्रिपाठी, संतोष सिंह, अखिलेश तिवारी, एच एन पांडे, संगीता सिंह, मोहम्मद अली, बी मैम, अभिलाषा, संदीप, कमलेश्वर, इम्तियाज इत्यादि लोग उपस्थित रहे। प्रधानाचार्य अरविंद मिश्रा ने बच्चों को भारतीय संस्कृति के महत्व को रेखांकित करते हुए सफल विद्यार्थियों के उज्ज्वल भविष्य की कामना की।


इस खबर को शेयर करें

Leave a Comment

5286


सबरंग